जीआई टैगिंग क्या है? | GI Tag Kya Hota Hai | Geographical Tagging का उद्देश्य

भौगोलिक संकेत (Geographical Indication) या GI Tag (जीआई टैग) एक प्रकार का उपयोगकर्ता संरक्षित चिह्न है जो किसी विशेष क्षेत्र या स्थान के उत्पादों को पहचानने के लिए उपयोग किया जाता है। यह चिह्न इस द्वारा दिखाता है कि उत्पाद का मूल्य और गुणवत्ता उस विशेष स्थान से संबंधित है जहां यह उत्पाद निर्मित होता है।

जीआई टैग की मुख्य उद्देश्यों में से एक है कि यह उत्पादों को सुरक्षित करता है, उनकी पहचान और उत्पाद की गुणवत्ता को सुनिश्चित करता है। इसके माध्यम से विशेष क्षेत्रों या स्थानों के उत्पादों को विश्व बाजार में पहचाना जा सकता है और उनकी मान्यता और महत्व को बढ़ावा दिया जा सकता है।

उदाहरण के रूप में, भारतीय चाय को दर्ज करने के लिए दार्जिलिंग चाय को जीआई टैग मिला है। इससे यह सुनिश्चित होता है कि केवल वह चाय जो दार्जिलिंग क्षेत्र में उत्पन्न होती है, ही दार्जिलिंग चाय के रूप में बेची जा सकती है। इस तरह से, जीआई टैग उत्पादों की विशिष्टता और क्षेत्रीय को सुनिश्चित करने में मदद करता है

जीआई टैगिंग क्या है?


जीआई टैगिंग (GI Tagging) एक प्रक्रिया है जिसमें विशेष क्षेत्र या स्थान से उत्पन्न होने वाले उत्पादों को भौगोलिक संकेत (Geographical Indication) चिह्न से चिह्नित किया जाता है। यह उत्पाद की मान्यता, गुणवत्ता, मूल्य और महत्व को सुनिश्चित करने में मदद करता है।

जीआई टैगिंग प्रक्रिया में, उत्पाद के निर्माण क्षेत्र के संगठन या संघ, सरकार और उत्पाद के निर्माताओं के बीच सहयोग और समन्वय होता है। इसके लिए एक विशेष संगठन या निकाय द्वारा गठित किया गया GI निर्धारण समिति या न्यास उपयोग किया जाता है। इस समिति के द्वारा उत्पाद के गुणवत्ता, प्रकार, प्रयोग, प्रमाण-पत्र, उत्पादन प्रक्रिया आदि का मान्यता से निर्धारण किया जाता है। यह उत्पाद के मूल्य को बढ़ाता है और उत्पाद के निर्माताओं को आर्थिक और सामाजिक लाभ प्राप्त करने में मदद करता है।

जीआई टैगिंग का मुख्य उद्देश्य उत्पाद की पहचानबिल्धि करना है और उत्पाद को उसके मूल्यवान और विशिष्ट गुणों के लिए पहचानने में मदद करना है। इसके माध्यम से, उत्पाद की गुणवत्ता, प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षण और स्थानीय आदिवासी और किसान समुदायों की आर्थिक विकास को सुनिश्चित किया जा सकता है

भारत में कितने जीआई टैग हैं?

भारत में अब तक कुल 370 से अधिक जीआई टैग हैं। ये टैग विभिन्न क्षेत्रों और स्थानों के उत्पादों को पहचानने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं, जिनमें शामिल हैं भारतीय चाय, दार्जिलिंग चाय, काश्मीरी सफेद सफ़ेद, बनारसी साड़ी, जूतेरा चप्पल, नागपुरी अंबा, देवनगरी लिपि में मराठी, तिरुवनंतपुरम नंबूदिरिपाद चप्पल, आम केसरी, बासमती चावल, नगर का रवा, तिरुवनंतपुरम हल्वा, और बहुत सारे और उत्पाद शामिल हैं। ये जीआई टैग भारतीय उत्पादों की पहचानबिल्धि और मान्यता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

जीआई टैग का मुख्यालय कहाँ है?

जीआई टैग (GI Tag) का मुख्यालय भारतीय पटेंट और वाणिज्यिक संगठन (Indian Patent and Trade Marks Office) के तहत स्थित है। यह मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है और गुणवत्ता निर्धारण और जीआई टैग की प्रक्रिया को संचालित करने के लिए जिम्मेदार है। यहाँ पर उत्पादों के आवेदन प्राप्त किए जाते हैं और उनकी मान्यता की प्रक्रिया चलाई जाती है। जीआई टैग के अलावा, इस मुख्यालय में विभिन्न वाणिज्यिक संबंधित कार्यों का भी प्रबंधन किया जाता है।

किस राज्य में सबसे ज्यादा जीआई टैग है?

भारत में केरल राज्य में सबसे ज्यादा जीआई टैग हैं। केरल राज्य को गुणवत्ता और विशेषता के मामले में अपने उत्पादों के लिए प्रसिद्धता प्राप्त है। केरल अपने विभिन्न प्रोडक्ट्स जैसे की कोची सारी, अरण्यक, वायनाद कावि, वालयरी सारी, कासरगोड खाद्य प्रोडक्ट्स, तिरुवनंतपुरम नंबूदिरिपाद चप्पल, नीलगिरी ती, नगर का रवा, तिरुवनंतपुरम हल्वा और अन्य उत्पादों के लिए जीआई टैग प्राप्त कर चुका है। केरल की प्रशंसा उनकी पारंपरिक विरासत, विशेष विशेषताओं और उत्पादों की अद्वितीयता के कारण होती है।

जीआई टैग का टाइम पीरियड कितना होता है?

जीआई टैग (GI Tag) का टाइम पीरियड आमतौर पर 10 साल का होता है। जब एक उत्पाद को जीआई टैग प्राप्त होता है, तो उसे 10 साल के लिए सुरक्षित किया जाता है। इस अवधि के बाद, उत्पाद के मालिक को जीआई टैग प्राप्त करने के लिए रीन्वेस्ट करना होता है। यह टाइम पीरियड उत्पाद की पहचान, उच्च गुणवत्ता और विशेषताओं की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए होता है। इस दौरान, उत्पाद के निर्माता उसे अपने लाभ के रूप में व्यापार कर सकते हैं और अन्य उत्पादों से इसे अलग कर सकते हैं।

भारत में पहला जीआई टैग क्या है?

भारत में पहला जीआई टैग देवनगेरी खादी को मिला था। देवनगेरी खादी, जो मध्य प्रदेश राज्य के उज्जैन जिले में उत्पादित होती है, एक प्रमुख गुणवत्ता और परंपरागत उत्पाद है। यह खादी अपने बुनाई और डिजाइन में अद्वितीयता के लिए मशहूर है और इसे देश और विदेश में विश्वस्तरीय रूप से मान्यता प्राप्त है। देवनगेरी खादी को 2006 में जीआई टैग प्राप्त हुआ था और यह उत्पाद अपनी श्रेष्ठता और विशेषताओं के कारण अभिनव बना हुआ है। यह पहला जीआई टैग नगरी खादी को उच्चतम स्तर की पहचान प्रदान करता है और उत्पाद की असलीता और गुणवत्ता की पुष्टि करता है।

जीआई टैग पाने वाला पहला उत्पाद कौन सा था?

जीआई टैग प्राप्त करने वाला पहला उत्पाद बनारसी साड़ी थी। बनारसी साड़ी भारतीय महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण और प्रसिद्ध रूप से जानी जाने वाली परंपरागत साड़ी है। यह साड़ी वाराणसी (बनारस) में उत्पादित होती है और अपनी मशहूरता के लिए जानी जाती है। बनारसी साड़ी को उच्च गुणवत्ता, विशेष बुनाई, डिजाइन और साधारण उपयोग के साथ जीआई टैग प्राप्त हुआ। यह उत्पाद अपनी कारिगरी, शृंगार का एक आदर्श बना रखता है और बनारसी साड़ी के जीआई टैग ने इसे एक आदर्श उत्पाद के रूप में प्रमाणित किया है।


मैं जीआई टैग कैसे प्राप्त करूं?


जीआई टैग प्राप्त करने के लिए आपको निम्नलिखित कदमों का पालन करना होगा:

1. उत्पाद की गुणवत्ता और मानकों की पुष्टि करें: जीआई टैग प्राप्त करने के लिए, आपको अपने उत्पाद की गुणवत्ता को मान्यता प्राप्त संगठनों द्वारा स्वीकृत मानकों के अनुसार सुनिश्चित करना होगा। इसमें उत्पाद की बुनियादी गुणवत्ता, सुरक्षा मानकों का पालन, पर्यावरणीय प्रबंधन और उत्पाद के मान्यता प्राप्त प्रमाण पर आधारित होता है।

2. जीआई टैग प्राप्ति के लिए आवेदन करें: आपको अपने उत्पाद के लिए जीआई टैग प्राप्त करने के लिए उत्पादक संगठन या उच्चारित संगठन के द्वारा जीआई टैग प्रमाणित करने के लिए आवेदन करना होगा। इसके लिए, आपको आवेदन पत्र भरना और संगठन के निर्देशों का पालन करना होगा।

3. गुणवत्ता निरीक्षण और मान्यता प्राप्ति: आपके उत्पाद के लिए जीआई टैग प्राप्त करने के बाद, संगठन आपके उत्पाद की गुणवत्ता का निरीक्षण करेगा और मान्यता प्राप्ति के लिए आवश्यक दस्तावेजों की जांच करेगा। यदि आपके उत्पाद गुणवत्ता पर खरा उतरता है और सभी मान्यता प्राप्ति मानदंडों को पूरा करता है, तो आपको जीआई टैग प्राप्त हो जाएगा।

अधिक जानकारी के लिए इंडियन गोवेर्मेंट वेबसाइट पर जाये लिंक

दोस्तों हमने इस पोस्ट में क्या सीखा

इस पूरे पोस्ट को पढ़कर आपको यह जानकारी तो हो ही गई होगी कि आखिर GI Tag (जीआई टैग) क्या होता है जीआई टैग GI Tag का उद्देश्य क्या होता है और दोस्तों इस से जुड़े हुए कुछ महत्वपूर्ण सवालके जवाब जानने की कोशिश की है दोस्तों कृपया आप यदि इसके बारे में और अधिक जानना चाहते हैं तो कृपया   की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर इसके बारे में और भी विस्तृत और विस्तार पूर्वक जानकारी आप बहुत ही आसानी से प्राप्त कर सकते हैं

दोस्तों यदि आपको पसंद आई है तो कृपया इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर करें तथा अपनी प्रतिक्रिया कमेंट में अवश्य दें 

Leave a Reply